Skip to main content

व्रत वाले साबूदाना पापड़ रेसिपी - Sabudana Papad Hindi Recipe

आपको घर पर ही आसानी से साबूदाना पापड़ रेसिपी बनाने की विधि (तरीका) चित्रों के साथ हिंदी में बता रहे है। साबूदाना पापड़ (उपवास) व्रत के फलाहार में गिना जाता है, लेकिन साबूदाने पापड को सुपाच्य होने के कारण सामान्यता कभी भी खाया जा सकता है।
 Sabudana Papad Hindi Recipe
बच्चे साबूदाने के पापड़ को बहुत शौक से खाते हैं। इसको घर पर बनाने की विधि इस प्रकार है.
(व्रत वाले साबूदाना पापड़ रेसिपी - Sabudana Papad Hindi Recipe)
साबूदाना पापड़ बनाने की सामग्री:-
  • 2 कप साबूदाना
  • 10 कप पानी
  • नमक स्वादानुसार
  • 2 चम्मच जीरा (पाउडर)
  • 1 चम्मच लाल मिर्ची (पाउडर)
  • तलने के लिए तेल
साबूदाना पापड़ बनाने की विधि:-
 Sabudana Papad Hindi Recipe
  • इस व्यंजन को फलाहार बनाने के लिए इसमें हम नमक की जगह सेंदा नमक का प्रयोग करेंगे जो व्रत (उपवास) में खाया जाता है।
  • सबसे पहले हम साबूदाने को धो कर साफ कर लेंगे फिर एक बर्तन में साबूदाने से दुगनी मात्रा में पानी डालकर उसमें साबूदाना 2 घंटे के लिए भिगोने रख देंगे।
  • अब एक भारी तले का बर्तन लीजिए और उसमें लगभग छह कप पानी उबालने के लिए रख दीजिये।
  • जब पानी में उबाल आ जाए तब उसमें भीगा हुआ साबूदाना, जीरा, लाल मिर्च पाउडर और स्वाद अनुसार नमक डाल दीजिए।
  • इसे लगातार चलाते रहिए जिससे कि यह तले में जले नहीं,
  • जब साबूदाने का गोल गाढ़ा और पारदर्शक दिखने लगे तब यह मान लीजिए कि अब हमारा पापड़ बनाने के लिए घोल तैयार है गैस को बंद कर दीजिए.
 Sabudana Papad Hindi Recipe
  • सबसे पहले प्लेट पर थोड़ा सा तेल लगाकर उसे चिकना कर लीजिए,
  • अब साबूदाने के घोल को एक बड़े चम्मच भर कर डालिए और उसे गोल-गोल फैला दीजिए..
  • दूसरा चम्मच भरकर घोल ले कर पहले पापड़ से 1 इंच दूरी पर डालकर गोल गोल फैला दीजिए।
  • इसी तरह हमें सारे घोल के पापड़ बना लेने हैं।
  • अगर जरूरत पड़े तो और थाल भी ले लीजीये।
  • साबूदाने के पापड को सूखने में 2 दिन लग जाते हैं।
  • अब आप इन पापड़ों को धूप में सूखने के लिए रख दीजिए।
  • पापड़ों के सूख जाने के बाद आप उन्हें एक डिब्बे में भरकर रखते हैं और जब जी चाहे फ्राई करके खाएं।
  • (समानता प्राचीन समय में एक बड़ी पॉलीथिन पर साबूदाने के पापड़ बनाए जाते थे और इन्हें बाहर धूप में सुखाया जाता था परंतु अब घरों में जगह का अभाव है, इसलिए हमने पॉलीथिन की जगह बड़ी प्लेटो का इस्तेमाल किया है।)