Skip to main content

Posts

Showing posts with the label शिशु आहार

शिशु आहार केला विथ फ्रेश क्रीम - Banana With Cream For Baby

आपको घर पर ही आसानी से केला विथ फ्रेश क्रीम रेसिपी बनाने की विधि (तरीका) हिंदी में बता रहे है। दूध की गुणों को कौन नहीं जानता इसमें शरीर के लिए सभी आवश्यक पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं ऐसा कोई नहीं जिसने दूध का सेवन कर उसकी तारीफ ना की हो। दूध का ही परिस्कृत रूप होता है दूध की क्रीम जो की बाजार में आसानी से मिल जाती है, यह थोड़ी गाड़ी होती है.
(शिशु आहार केला विथ फ्रेश क्रीम - Banana With Cream For Baby)

बच्चों के लिए सूजी की खीर - Sooji Kheer For Baby

आपको घर पर ही आसानी से सूजी की खीर (Sooji Kheer For Baby) रेसिपी बनाने की विधि (तरीका) हिंदी में बता रहे है। अनाज हमारे शरीर की एक आवश्यकता है, अन्न भगवान का एक रुप है, जिसके बिना हमारा रहना असंभव सा है। अनाजों में गेहूं का स्थान प्रथम है गेहूं का ही एक रुप सूजी है जो गेहूं को पीस कर बनाया जाता है।
(बच्चों के लिए सूजी की खीर - Sooji Kheer For Baby)

मूंग दाल की खिचड़ी बच्चों के लिए - Moong Dal Khichdi For Baby

घर पर ही आसानी से मूंग दाल की खिचड़ी रेसिपी बनाने की विधि (तरीका) हिंदी में बता रहे है। बच्चों को दाल का सेवन अधिक से अधिक करना चाहिए मूंग दाल की सबसे बड़ी खासियत यह है कि सुपाच्य होती है और शरीर को ठंडक प्रदान करती है। बेबी को मूंग दाल की खिचड़ी खिलाने से उसकी कब्ज की समस्या दूर होती है और किसी भी बीमारी के बाद अगर बेबी का शरीर कमजोर हो गया है तो मूंग की दाल की खिचड़ी खिलाने से उसे भरपूर ताकत प्राप्त होगी।
(बच्चों के लिए मूंग दाल की खिचड़ी - Moong Dal Khichdi For Baby)

बच्चों के लिए मूंग दाल का पानी - Moong Dal Soup For Baby

घर पर ही आसानी से मूंग दाल का पानी (Moong Dal For Baby) रेसिपी बनाने की विधि (तरीका) हिंदी में बता रहे है। हमारे परंपरागत भोजन में मूंग दाल छिलके वाली एवं बिना छिलके वाली दोनों तरह की दाल का उपयोग होता है, मूंग दाल ज्यादा फायदेमंद मानी गई है मूंग दाल में सभी पोषक तत्व जैसे आयरन, प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन और कार्बोहाइड्रेट दुगनी मात्रा में मिल जाते हैं।
(बच्चों के लिए मूंग दाल का पानी - Moong Dal Soup For Baby)

बच्चों के लिए काशीफल का पोषक पानी - Pampkin Soup For Small Babies

घर पर ही आसानी से काशीफल का पोषक पानी रेसिपी बनाने की विधि (तरीका) हिंदी में बता रहे है। कुछ स्थानों पर इसे काशीफल तो कुछ स्थानों पर इसे कद्दू के नाम से जाना जाता है ।यह सब्जी ज्यादातर कचौड़ी और पूरी के साथ भंडारों में जरूर बनती है इसकी तासीर है कि यह सब्जी सारे खाने को जल्दी से जल्दी पचा देती है। काशीफल में आयरन मैग्नीशियम सेलेनियम और फास्फोरस प्रचुर मात्रा में होता है, यह सारे तत्व शरीर की पोषकता के लिए बहुत आवश्यक है जो कि केवल काशीफल की टेस्टी सब्जी के सेवन से शरीर को आसानी से प्राप्त हो जाते हैं।
(बच्चों के लिए काशीफल का पोषक पानी - Pampkin Soup For Small Babies)

बच्चों के लिए मसूर दाल का सूप - Masoor Dal For Baby

घर पर ही आसानी से मसूर दाल का पानी रेसिपी बनाने की विधि (तरीका) हिंदी में बता रहे है। दालों में शरीर के लिए जरूरी सभी पोषक तत्व मौजूद होते हैं. मसूर दाल हमारे भोजन में कई दालों के साथ मिलाकर बनाई जाती है इसकी तासीर गर्म होती है.
यह दाल हमारे शरीर में रक्त की वृद्धि करती है इसलिए बच्चों को सर्दी के मौसम में इसका पानी देना चाहिए इससे सर्दी भी नहीं लगेगी और रक्त के साथ शरीर का भी भरपूर विकास होगा आइए बनाते हैं बेबी के लिए मसूर दाल पानी... (बच्चों के लिए मसूर दाल का सूप - Masoor Dal For Baby)

शिशु आहार लौकी (घिया) का सूप बनाने की विधि - Bottle Gourd For Babies

आपको घर पर ही आसानी से लौकी (घिया) का पानी रेसिपी बनाने की विधि (तरीका) हिंदी में बता रहे है। हरी सब्जियां खाने से व्यक्ति की शारीरिक बनावट हस्तपुस्त होती है और बीमारियों उससे दूर भागती हैं। गर्मियों के मौसम में लौकी खूब मिलती है इसका सेवन सब्जी बनाने में तो होता ही है इसका जूस भी पिया जाता है, लौकी के इस जूस को अमृत माना गया है।
(शिशु आहार लौकी (घिया) का सूप बनाने की विधि - Bottle Gourd For Babies)

छोटे बच्चों को पिलायें दाल अरहर का सूप - Toor Dal For Small Baby

घर पर ही आसानी से दाल अरहर का पानी रेसिपी बनाने की विधि (तरीका) हिंदी में बता रहे है। जब बेबी 6-7 माह का हो जाता है तब डॉक्टर कुछ ठोस खाना देने के लिए कहते हैं। आज हम कुछ ऐसी ही घर में बनने बाली डिश पर ध्यान आकर्षित करेंगे जिसे बेबी प्यार से खाएगा और स्वस्थ्य रहेगा। इसमे पहली है अरहर दाल का पानी अरहर दाल में खनिज, कार्वोहाइड्रेड, कैल्सियम प्रचुर मात्रा में होता है। दलहन प्रोटीन का एक आसान और सुगम स्रोत्र है।
(छोटे बच्चों को पिलायें दाल अरहर का सूप – Toor Dal For Small Baby)

शिशुओं के लिए आटे वाले नमक पारे - Aate ke Namak Pare Recipe

घर पर ही आसानी से आटे वाले नमक पारे रेसिपी बनाने की विधि (तरीका) हिंदी में बता रहे है। यह नाश्ते पर आमतौर पर खाने वाली डिश है। हम सब के घरों में चाय के साथ सामान्यता नमकपारे खाए जाते हैं। लेकिन बेबी के लिए आटे के नमक पारे बहुत फायदेमंद होंगे क्योंकि यह जल्दी से घुलते नहीं है इसलिए बच्चों के मसूड़ों की मालिश भी हो जाती है और इससे दांत निकलने में आसानी भी होती है। नमक पारे से शरीर की जरूरत के हिसाब से नमक और अन्न की पौष्टिकता और सभी जरूरी आवश्यक तत्व बेबी को मिल जाते हैं।
(शिशुओं के लिए आटे वाले नमक पारे - Aate ke Namak Pare Recipe)